मानवाधिकार

सरल शब्दों में कहें तो मानवाधिकारों का आशय ऐसे अधिकारों से है जो जाति, लिंग, राष्ट्रीयता, भाषा, धर्म या किसी अन्य आधार पर भेदभाव किये बिना सभी को प्राप्त होते हैं।मानवाधिकारों में मुख्यतः जीवन और स्वतंत्रता का अधिकार, गुलामी और यातना से मुक्ति का अधिकार, अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का अधिकार तथा काम एवं शिक्षा का […]

Continue Reading

गठन एवं उद्देश्य

आजादी के 75 वर्ष बीत जाने के बाद भी आज असंख्य भारत वासी बेहतर भोजन, शिक्षा, स्वास्थ, आवास शुद्ध पेय जल, न्याय ,समानता और विकास जैसी मूलभूत सुविधाओं से आज भी वंचित है। देश में भ्रष्टाचार, सम्प्रदायिकता, जातिवाद, अलगाववाद, भाषावाद, प्रान्तवाद जैसी समस्याए दिन-प्रतिदिन विकराल रूप धारण करती जा रही है। हमारे संविधान में जाति, […]

Continue Reading